Poems by Emilio Martin Paz Panana / Translated into Hindi by Pankhuri Sinha

 
Poems by Emilio Martin Paz Panana
 
 
खानाबदोश बोहेमियन
 
एक पार्टी एक पेय
और यह धरती निर्वस्त्र
 
आलिंगन बद्ध
चूमते हुए एक दूसरे को
चाहते, माँगते मृत्यु!
 
यहीं हैं वे, श्याम श्वेत के
बीच के स्लेटी रंग
और पुकारता हुआ गहरा बैगनी!
 
और एक कौने में
एक बिल्ली है
इश्क़ फरमाती एक
लड़की के साथ!
 
और आंगन में, बड़े प्रांगण में
एक सीगल, अपने प्यार को
रति क्रिया में बदल रहा है
एक पुरुष के साथ!
 
आज के परे क्या है?
केवल वह नई सुबह
लाल लिबास में सजी संवरी!
 
 
BOHEMIAN
 
A party,
a drink
and the naked earth.
 
Embraced,
kissing each other,
wishing death.
 
Here they are
the gray years,
the violet ceiling.
 
And in one corner,
a cat
seducing a girl.
 
And in the yard,
A seagull
Penetrating a guy.
 
What is beyond today?
But the morning
Dressed in red.
 
 
 
कविता
 
कविता
एक लंबी कड़ी का
आखिरी हिस्सा है
कविता! जिसे थाम रखा है
आदमी ने गुमनामी और
अदृश्य में डूबने से
बचने के लिए !
 
गुमनामी जो आखिरी सूत्र है
एक लंबी कड़ी का
जो हमेशा ईश्वर की ओर
इशारा करती है!
 
 
POETRY
 
Poetry
is the lastlink
of a long chain.
 
Chain
in which the human being holds on
for not to fall into the oblivion.
 
Oblivion
which is the last link
of a long chain
which always points
to God.
 
—-मूल कविता—एमिलियो पाज़ पनाना, पेरू के चर्चित कवि
—–अनुवाद —-पंखुरी सिन्हा, भारतीय कवयित्री
 
 
 

Translated into Hindi by Pankhuri Sinha

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s