ट्रांसह्युमेन्स: घुमंतु गड़ेरिया जीवन (Transhumance) – Poem by Lucilla Trpazzo / Translated into Hindi by Pankhuri Sinha

 
Poem by Lucilla Trpazzo
 
 
ट्रांसह्युमेन्स: घुमंतु गड़ेरिया जीवन
 
नदियों के संगम को पार करने का वह बिन्दु
जहाँ लोग पार करते हैं सरहदें और पक्षी भी
ऊँट, हाथी और पाट के बोरे
फटे हुए आसमान की तीखी छायाओं तले
औरतें टोकरियों में उठाये चलती हैं
अपने पिता की चीखें और चाकू
बच्चों की आँखों में दुहराता है
प्रेम का हल्का आभास
किसी दूसरे क्षितिज पर
जाने किन दूरस्थ मान्यताओं
भ्रांतियों की राह पर
एक घुमावदार नस है जैसे
इतिहास, खोदता गहरी खाईंयां
हर कुछ के चेहरे पर!
कमल के फूलों का एक अर्घ्य
पोंछ देने के लिए नुकीले खौफ़
और बोने, उगाने लगते हैं हम
बालू पर सपने, काटने भी
सपनों की एक असल फसल!
हल्की सी एक झुर्रि हवा में
कहाँ छोड़ती है कोई निशान!
 
—मूल कविता—लुचिला त्रपाज़ो
—-अनुवाद—-‘पंखुरी सिन्हा
 
 
Transhumance
 
At the crossing of rivers intertwining
scarves, people migrate and birds
camels, elephants and jute sacks.
Under harsh shadows of torn skies
women carry in baskets
the cries of the fathers and knives
in the eyes of the children. Replicating
traces of love in a different horizon
on the route of far away delusions.
History is a meandering vein, digging
craters on the face. An offering
of lotus flowers to extinguish the mark
of angular horror, and we harvest dreams
poured on sand. A wrinkle in the wind
leaves no trace.
 
 

Translated into Hindi by Pankhuri Sinha

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s