कौन हो तुम ? / रंजना शरण सिन्हा  

 
रंजना शरण सिन्हा
 
 
कौन हो तुम ?
 
प्रतिबिंबित हो तुम शब्दों में
अनजान-अनाम -सी एक छवि
इस शाम की नीली चादर में
तन्हा-तन्हा दिल एक कवि
 
ख़्वाबों की क़ुर्बत सच की दूरी
भला जानता कौन उन्हें ?
मालूम नहीं घड़ियाँ सतरंगी
बुनती क्यों अनचाहे लम्हें ?
 
लहरों – सा उद्वेलित मन
सागर-तट से टकराता है
शंख – सीपियाँ यादों की
बन ठहर वहीं रह जाता है
 
रुकती घड़ियाँ गिरती साँसें
यह चाँद भी फीका पीला है
अब कहाँ कारवाँ तारों का
पलकों का चिलमन गीला है
 
क़तरा- क़तरा दिल घुलता है
पिघली यादों के साये में
पतझड़ का मौसम आता ज्यों
सूखे शजरों के काये में
 
—© रंजना शरण सिन्हा
 
 

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s