Poems by Tareq Samin / Translated from English to Hindi by Pankhuri Sinha

 
Tareq Samin
 
Tareq Samin is a Bangladeshi bilingual Writer and Editor of the bilingual literary journal Sahitto. He is author of seven books, including four poetry collections, two Short Stories collections and a Novel. Also he has translated into Bengali, two books of Anthology of International poetry of 22 poets from 20 countries. In total he has nine books published. Some of his poems are translated in English, Spanish, Chinese, German, French, Greek, Italian, Russian, Turkish, Swedish, Finnish, Hebrew, Arabic, Vietnamese, Hindi, Nepalese, Portuguese, Estonian, Slovak, Romanian, Macedonian and Hungarian Languages. His poems, short Stories and articles are published in more than 25 countries.
 
Tareq Samin received the ‘International Best Poets Award-2020’ from The International Poetry Translation And Research Centre (IPTRC), China and the Greek Academy of Arts and Writing. Also he has been awarded ‘Honorable Mention’ in Foreign Language Authors category for his poem ‘Another Try’ in ‘The prize il Meleto di Guido Gozzano Agliè’ poetry competition held in 12 September 2020 in Turin, Italy.
 
He is an important voice in the literary world working against violence and extremism and in favor of human rights, peace and free speech. Nature, Love and Humanism are central to his work.
 
 
—मूल कविता—तारेक सामिन
—–अनुवाद—-पंखुरी सिन्हा
 
 
The sunset in Nagarkot hills
 
I am standing with a friend
yet I am alone
and thinking about you.
The sun is setting in the west
of Nagarkot hills.
Twilight are visible at skyline
clouds are kissing with the forest greens.
birds and insects are making noisy sounds
evening temperature is getting chilled.
fogs and clouds are flying like soft cottons
and I am alone
with many people.
Most tourist couple have already left,
how unlucky they are
those did not kissed each other
in this foggy mountain evening.
 
 
नागरकोट पहाड़ों पर सूर्यास्त
 
खड़ा हूँ मैं एक दोस्त के साथ
लेकिन हूँ दर असल
बिल्कुल अकेला
और सोचता हुआ
तुम्हारे बारे में !
डूब रहा है सूरज
पश्चिम में
नागरकोट पहाड़ों के!
रक्ताभ एक आभा
दिखाई दे रही है
क्षितिज के पास!
बादल चूम रहे हैं
जंगल के हरे को!
पक्षी और फतिंगे
मचा रहे हैं
संगीत मय शोर
शाम का तापमान
हो रहा है
नम और कम !
बादल और धुंध के टुकड़े
मुलायम रई की तरह
उड़ रहे हैं
और मैं अकेला हूँ
कई लोगों से
घिरा हुआ!
अधिकांश सैलानी जोड़े
लौट चुके हैं वापस
कितने भाग्य हीन हैं वे
वंचित, जिन्होनें
चूमा नहीं
एक दूसरे को
कुहासे भरी
इस पहाड़ी शाम में!
 
 
 
I will always love you
 
I will always love you
like the Pigeon in that window
love his mate so passionate.
like the blue sky in love with
the white cloud.
like that dog waiting his partner’s return
from sickness.
like that 90 years old man
holding his wife’s hand.
I will always love you
love you
love you
love you
always
always
always love you.
Like the gentle breeze
in love with the trees; every time they kiss.
Like the white mountain
in love with the snow.
Like a novelist
with his pen.
Like a poet
about his poem.
I will always love you
love you
love you
love you
love you till my last breath.
 
 
मैं हमेशा तुमसे प्यार करूँगा
 
जैसे खिड़की में बैठा वह कबूतर
करता है अपनी मादा से गहरा प्रेम!
जैसे कि नीला आसमान
करता है प्यार सफ़ेद बादल से!
जैसे वह कुत्ता इंतज़ार करता
अपने साथी की वापसी का
बीमारी से!
90 साल के उस आदमी की तरह
जिसने थाम रखा है
अपनी पत्नी का हाथ
 
हमेशा करूँगा तुमसे प्यार
तुम्हीं से सदा और सर्वदा
बहुत और बेतहाशे
करता रहूँगा प्यार
किसी मुलायम मीठी बयार सा
जो करती है प्यार पेड़ो से
हर बार जब वे चूमते हैं
एक दूसरे को!
जैसे सफ़ेद पहाड़ करता है
प्यार बर्फ़ से
जैसे चाहता है एक लेखक
उपन्यासकार, अपनी कलम को
चाहता रहूँगा ताउम्र तुम्हें
पूरी रवानगी और शिद्दत के साथ
करता रहूँगा प्यार जीवन भर
बस प्यार, तुम्हें और तुम्हें ही!
 
 
 
If you call me
 
Distance creates disappearance
time kills memories.
The world is a small village
but we are from two countries.
Two different race, religion
and ethnicity.
 
If you call me,
I will fly like an eagle
if you call me
I will try like an ant.
if you call me
I will love you like a human
giving up the obsession.
If you call me
I will build a home;
our two body
will become one
with the love of divine.
 
so, please call me
please call me back
let’s be you are mine
I am yours
let’s fulfill this human life.
 
 
अगर तुम पुकारो मुझे
 
दूरियां करती हैं गायब
चीजें, बातें, लोग
समय मार डालता है
स्मृतियों को!
एक छोटा सा गाँव है
दरअसल यह दुनिया
लेकिन हम दो देश से हैं!
दो अलग नस्ल, धर्म और अस्मिता के लोग!
अगर तुम पुकारो मुझे
मैं चील की तरह उड़ू गा
तुम्हारी ही पुकार पर
मैं चींटी की तरह
करूँगा प्रयास
पुकार लो अगर मुझे
मैं उस इन्सान की तरह
प्यार करूँगा तुम्हें
जो छोड़ने की प्रक्रिया में हैं
अपने व्यसन
त्याग देने को है
अपनी प्रेमिल आसक्ति!
तुम पुकारो मुझे तो मैं
बनाऊंगा एक घर!
हमारे दो बदन
हो जायेंगे एक
दिव्य ईश्वरीय प्रेम में!
इसलिये प्रिय, पुकार लो मुझे
तुमसे आग्रह है
बुला लो मुझे वापस
हो जाने दो इसे एक
मुकम्मल सच कि मेरी हो तुम!
तुम्हारा मैं
आओ मिलकर पूरा करें
यह मानव जीवन!
 
 
 
Why I write
 
When people fall in love
with something in this world.
They live for that burden
They die for that.
Today I will unveil my deepest thoughts
Slay me; I do not care!
Death is that, when you die bravely
Why live a cowardice life!
When you are the chosen one
for this.
Do not be fearful of anything
Consider it a God gifted blessing.
When you have a passion
why frightened, O soul!
live for it
Or die for it
What else you could be
without it?
 
 
मैं क्यों लिखता हूँ?
 
जब लोगों को हो जाता है
इस दुनिया की किसी चीज़ से प्यार
वे जीते हैं बस उसी के लिए
मरते हैं बस उसी के लिए
आज मैं व्यक्त करने जा रहा हूँ
अपने गहनतम विचार
तुम मार डालो मुझे, इसकी परवाह नहीं!
मौत तो वही है जब तुम मरो बहादुरी से!
क्यों जीना एक बुजदिल कायर की ज़िंदगी?
जबकि तुम्हें चुना गया है खासतौर से
इसीलिए?
डरो मत किसी भी चीज़ से
स्वीकार करो सबकुछ एक ईश्वर प्रदत्त भेंट की तरह!
यदि प्रेम है तुम्हारे पास
किस बात का डर? ओ मेरे मन!
हृदय मेरे! मेरी आत्मा!
जियो तो उसी के लिए
या मर जाओ!
तुम और क्या हो सकते हो
बिना उस प्यार के?
 
 
 
HATRED AND LOVE
 
When hatred spreads the fire of division among men
Logic and intellect lose its way ;
Then ; Come O mind,
O deprived human life
Lets bath in the love’s stream.
Love, only love can
destroy the giant power of hatred,
So come today
lets love and respect each other,
There is the dire need of love, among mankind.
 
 
नफरत और प्यार
 
जब नफरत फैलाती है
अलगाव की आग
आदमी और आदमी के बीच
तर्क और विवेक खो देते हैं
अपनी राह
फिर आओ मेरी बुद्धि
ओ मेरे वंचित मनुष्य जीवन
एक डुबकी लगा लें, नहा लें
प्रेम की बहती दरिया में!
प्यार और केवल प्यार
नष्ट कर सकता है नफरत की ताकत को,इसलिए आओ आज
और आज के बाद हर दिन
प्यार और सम्मान करें
एक दूसरे का! मनुष जाति को
बहुत ज़्या
 
 

Translated from English to Hindi by Pankhuri Sinha

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s